Bootstrap Image Preview

Kaifi Azmi - Aza Me Behte The Aansu Yaha.n

अज़ा में बहते थे आँसू यहाँ, लहू तो नहीं 

ये कोई और जगह है ये लखनऊ तो नहीं 

-----------------*------------------

यहाँ तो चलती हैं छुरिया ज़ुबाँ से पहले 

ये मीर अनीस की, आतिश की गुफ़्तगू तो नहीं 

-----------------*------------------

चमक रहा है जो दामन पे दोनों फ़िरक़ों के 

बग़ौर देखो ये इस्लाम का लहू तो नहीं

-----------------*------------------

Dard Shayari Yaad Shayari zindagi Duniya Shayari

Posted In : Kaifi Azmi

17-Jul-2017
285 views

0 Comments