Bootstrap Image Preview

Kaifi Azmi - Nayi Subh

ये सेहत-बख़्श तड़का ये सहर की जल्वा-सामानी

उफ़ुक़ सारा बना जाता है दामान-ए-चमन जैसे

-----------------*------------------

छलकती रौशनी तारीकियों पे छाई जाती है

उड़ाए नाज़ियत की लाश पर कोई कफ़न जैसे

-----------------*------------------

उबलती सुर्ख़ियों की ज़द पे हैं हल्क़े सियाही के

पड़ी हो आग में बिखरी ग़ुलामी की रसन जैसे

-----------------*------------------

शफ़क़ की चादरें रंगीं फ़ज़ा में थरथराती हैं

उड़ाए लाल झण्डा इश्तिराकी अंजुमन जैसे

-----------------*------------------

चली आती है शर्माई लजाई हूर-ए-बेदारी

भरे घर में क़दम थम-थम के रखती है दुल्हन जैसे

-----------------*------------------

फ़ज़ा गूँजी हुई है सुब्ह के ताज़ा तरानों से

सुरूद-ए-फ़त्ह पर हैं सुर्ख़ फ़ौजें नग़्मा-ज़न जैसे

-----------------*------------------

हवा की नर्म लहरें गुदगुदाती हैं उमंगों को

जवाँ जज़्बात से करता हो चुहलें बाँकपन जैसे

-----------------*------------------

ये सादा-सादा गर्दूं पे तबस्सुम-आफ़रीं सूरज

पै-दर-पै कामयाबी से हो स्तालिन मगन जैसे

-----------------*------------------

सहर के आइने में देखता हूँ हुस्न-ए-मुस्तक़बिल

उतर आई है चश्म-ए-शौक़ में 'कैफ़ी' किरन जैसे

-----------------*------------------

zindagi

Posted In : Kaifi Azmi

17-Jul-2017
280 views

0 Comments