Bootstrap Image Preview

Mirza Ghalib - Jisne Haq Diyaa Mujhe Muskurane Kaa

Jisne Haq Diyaa Mujhe Muskurane Kaa
Use Shouk Hai Ab Mujhe Rulaanee Kaa
Jisee Lehron Se Cheen Karr Laye The Kinaree Par
Intzaarr Hai Use Ab Meree Doob Jaane Ka

जिसने हक़ दिया मुझे मुस्कुराने का 

उसे शौक़ है अब मुझे रुलाने का 

जिसे लहरों से छीन कर लाये थे किनारे पर 

इंतज़ार है अब उसे मेरे डूब जाने का 

Love Shayari Dard Shayari

Posted In : Mirza Ghalib

05-Feb-2018
354 views

0 Comments