Bootstrap Image Preview

Waseem Barelvi - Mai.n ye nahi kehta ki mera sir na milega

मैं ये नहीं कहता कि मिरा सर न मिलेगा 

लेकिन मिरी आँखों में तुझे डर न मिलेगा 

---------------*--------------

सर पर तो बिठाने को है तय्यार ज़माना 

लेकिन तिरे रहने को यहाँ घर न मिलेगा 

---------------*--------------

जाती है चली जाए ये मय-ख़ाने की रौनक़ 

कम-ज़र्फ़ों के हाथों में तो साग़र न मिलेगा 

---------------*--------------

दुनिया की तलब है तो क़नाअत ही न करना 

क़तरे ही से ख़ुश हो तो समुंदर न मिलेगा

---------------*--------------

Duniya Shayari

Posted In : Waseem Barelvi

17-Jul-2017
322 views

0 Comments